agar chhoota bhi us se aaina-khaana to kya hoga | अगर छूटा भी उस से आइना-ख़ाना तो क्या होगा - Qamar Jalalvi

agar chhoota bhi us se aaina-khaana to kya hoga
vo uljhe hi rahenge zulf mein shaana to kya hoga

bhala ahl-e-junoon se tark veeraana to kya hoga
khabar aayegi un ki un ka ab aana to kya hoga

sune jaao jahaan tak sun sako jab neend aayegi
wahin ham chhod denge khatm afsaana to kya hoga

andheri raat zindaan paanv mein zanjeer-e-tanhaai
is aalam mein mar jaayega deewaana to kya hoga

abhi to mutmain ho zulm ka parda hai khaamoshi
agar kuchh munh se bol uththa ye deewaana to kya hoga

janaab-e-sheikh ham to rind hain chullu salaamat hai
jo tum ne tod bhi daala ye paimaana to kya hoga

yahi hai gar khushi to raat bhar ginte raho taare
qamar is chaandni mein un ka ab aana to kya hoga

अगर छूटा भी उस से आइना-ख़ाना तो क्या होगा
वो उलझे ही रहेंगे ज़ुल्फ़ में शाना तो क्या होगा

भला अहल-ए-जुनूँ से तर्क वीराना तो क्या होगा
ख़बर आएगी उन की उन का अब आना तो क्या होगा

सुने जाओ जहाँ तक सुन सको जब नींद आएगी
वहीं हम छोड़ देंगे ख़त्म अफ़्साना तो क्या होगा

अँधेरी रात ज़िंदाँ पाँव में ज़ंजीर-ए-तन्हाई
इस आलम में मर जाएगा दीवाना तो क्या होगा

अभी तो मुतमइन हो ज़ुल्म का पर्दा है ख़ामोशी
अगर कुछ मुँह से बोल उठ्ठा ये दीवाना तो क्या होगा

जनाब-ए-शैख़ हम तो रिंद हैं चुल्लू सलामत है
जो तुम ने तोड़ भी डाला ये पैमाना तो क्या होगा

यही है गर ख़ुशी तो रात भर गिनते रहो तारे
'क़मर' इस चाँदनी में उन का अब आना तो क्या होगा

- Qamar Jalalvi
0 Likes

Bahana Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Qamar Jalalvi

As you were reading Shayari by Qamar Jalalvi

Similar Writers

our suggestion based on Qamar Jalalvi

Similar Moods

As you were reading Bahana Shayari Shayari