bala se ho shaam ki siyaahi kahi to manzil meri milegi | बला से हो शाम की सियाही कहीं तो मंज़िल मिरी मिलेगी - Qamar Jalalvi

bala se ho shaam ki siyaahi kahi to manzil meri milegi
udhar andhere mein chal padunga jidhar mujhe raushni milegi

hujoom-e-mahshar mein kaisa milna nazar-farebi badi milegi
kisi se soorat tiri milegi kisi se soorat meri milegi

tumhaari furqat mein tang aa kar ye marne waalon ka faisla hai
qaza se jo ham-kinaar hoga use nayi zindagi milegi

qafas se jab chhut ke jaayenge ham to sab milenge b-juz-nasheman.
chaman ka ek ek gul milega chaman ki ik ik kali milegi

tumhaari furqat mein kya milega tumhaare milne se kiya milega
qamar ke honge hazaar-ha gham raqeeb ko ik khushi milegi

बला से हो शाम की सियाही कहीं तो मंज़िल मिरी मिलेगी
उधर अँधेरे में चल पड़ूँगा जिधर मुझे रौशनी मिलेगी

हुजूम-ए-महशर में कैसा मिलना नज़र-फ़रेबी बड़ी मिलेगी
किसी से सूरत तिरी मिलेगी किसी से सूरत मिरी मिलेगी

तुम्हारी फ़ुर्क़त में तंग आ कर ये मरने वालों का फ़ैसला है
क़ज़ा से जो हम-कनार होगा उसे नई ज़िंदगी मिलेगी

क़फ़स से जब छुट के जाएँगे हम तो सब मिलेंगे ब-जुज़-नशेमन
चमन का एक एक गुल मिलेगा चमन की इक इक कली मिलेगी

तुम्हारी फ़ुर्क़त में क्या मिलेगा तुम्हारे मिलने से किया मिलेगा
'क़मर' के होंगे हज़ार-हा ग़म रक़ीब को इक ख़ुशी मिलेगी

- Qamar Jalalvi
0 Likes

Visaal Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Qamar Jalalvi

As you were reading Shayari by Qamar Jalalvi

Similar Writers

our suggestion based on Qamar Jalalvi

Similar Moods

As you were reading Visaal Shayari Shayari