kisi ki yaad mein duniya ko hain bhulaaye hue | किसी की याद में दुनिया को हैं भुलाए हुए - Rajendra Krishan

kisi ki yaad mein duniya ko hain bhulaaye hue
zamaana guzra hai apna khayal aaye hue

badi ajeeb khushi hai gham-e-mohabbat bhi
hasi labon pe magar dil pe chot khaaye hue

hazaar parde hon pahre hon ya hon deewarein
rahenge meri nazar mein to vo samaaye hue

kisi ke husn ki bas ik kiran hi kaafi hai
ye log kyun mere aage hain sham'a laaye hue

किसी की याद में दुनिया को हैं भुलाए हुए
ज़माना गुज़रा है अपना ख़याल आए हुए

बड़ी अजीब ख़ुशी है ग़म-ए-मोहब्बत भी
हँसी लबों पे मगर दिल पे चोट खाए हुए

हज़ार पर्दे हों पहरे हों या हों दीवारें
रहेंगे मेरी नज़र में तो वो समाए हुए

किसी के हुस्न की बस इक किरन ही काफ़ी है
ये लोग क्यूँ मिरे आगे हैं शम्अ' लाए हुए

- Rajendra Krishan
0 Likes

Yaad Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rajendra Krishan

As you were reading Shayari by Rajendra Krishan

Similar Writers

our suggestion based on Rajendra Krishan

Similar Moods

As you were reading Yaad Shayari Shayari