tum purush ho dar rahe ho vyarth hi sansaar se | तुम पुरुष हो, डर रहे हो व्यर्थ ही संसार से - Ram Naresh Tripathi

tum purush ho dar rahe ho vyarth hi sansaar se
jeet lete ho nahin kyun tyaag se upkaar se

sir katakar jee utha us deep ki dekho dasha
dab raha tha jo andhere ke nirantar bhaar se

pis gai tab premika ke haath chadh choomi gai
maan mehndi ko mila hai praan ke uphaar se

tan diya peesa gaya anjan bana tab kaam ka
tab use rakha drigon mein premiyon ne pyaar se

lekhani ne jeebh di tab woh mili bhasha use
jo amar bankar bachaati srishti ko sansaar se

prem ke path mein yahan to haar hi mein jeet hai
bhakt ko bhagwaan milte hain hriday ki haar se

तुम पुरुष हो, डर रहे हो व्यर्थ ही संसार से
जीत लेते हो नहीं क्यों त्याग से उपकार से

सिर कटाकर जी उठा उस दीप की देखो दशा
दब रहा था जो अँधेरे के निरंतर भार से

पिस गई तब प्रेमिका के हाथ चढ़ चूमी गई
मान मेहँदी को मिला है प्राण के उपहार से

तन दिया, पीसा गया अंजन बना तब काम का
तब उसे रक्खा दृगों में प्रेमियों ने प्यार से

लेखनी ने जीभ दी तब वह मिली भाषा उसे
जो अमर बनकर बचाती सृष्टि को संसार से

प्रेम के पथ में यहाँ तो हार ही में जीत है
भक्त को भगवान मिलते हैं हृदय की हार से

- Ram Naresh Tripathi
1 Like

Terrorism Shayari

Our suggestion based on your choice

Similar Writers

our suggestion based on Ram Naresh Tripathi

Similar Moods

As you were reading Terrorism Shayari Shayari