qaabez raha hai dil pe jo sultaan ki tarah | क़ाबिज़ रहा है दिल पे जो सुल्तान की तरह - Sarfaraz Shahid

qaabez raha hai dil pe jo sultaan ki tarah
aakhir nikal gaya shah-e-iran ki tarah

zaahir mein sard-o-zard hai kaaghan ki tarah
lekin mizaaj us ka hai multan ki tarah

raaz-o-niyaaz mein bhi akad-fun nahin gai
vo khat bhi likh raha hai to chaalaan ki tarah

lukma halaal ka jo mila ahl-kaar ko
us ne chaba ke thook diya paan ki tarah

zikr us pari-jamaal ka jab aur jahaan chhida
fauran raqeeb aa gaya shaitaan ki tarah

ik lamha us ki deed hui bas ki bheed mein
aur phir vo kho gaya mere ausaan ki tarah

main mubtala-e-qarz raha chaar saal tak
vo sirf chaar din raha mehmaan ki tarah

har baat ke jawaab mein fauran nahin nahin
nikla zabaan-e-yaar se gardaan ki tarah

shaahid se kah rahe ho ki rozay rakha kare
har maah jis ka guzra hai ramzaan ki tarah

क़ाबिज़ रहा है दिल पे जो सुल्तान की तरह
आख़िर निकल गया शह-ए-ईरान की तरह

ज़ाहिर में सर्द-ओ-ज़र्द है काग़ान की तरह
लेकिन मिज़ाज उस का है मुल्तान की तरह

राज़-ओ-नियाज़ में भी अकड़-फ़ूँ नहीं गई
वो ख़त भी लिख रहा है तो चालान की तरह

लुक़्मा हलाल का जो मिला अहल-कार को
उस ने चबा के थूक दिया पान की तरह

ज़िक्र उस परी-जमाल का जब और जहाँ छिड़ा
फ़ौरन रक़ीब आ गया शैतान की तरह

इक लम्हा उस की दीद हुई बस की भीड़ में
और फिर वो खो गया मिरे औसान की तरह

मैं मुब्तला-ए-क़र्ज़ रहा चार साल तक
वो सिर्फ़ चार दिन रहा मेहमान की तरह

हर बात के जवाब में फ़ौरन नहीं नहीं
निकला ज़बान-ए-यार से गर्दान की तरह

'शाहिद' से कह रहे हो कि रोज़े रखा करे
हर माह जिस का गुज़रा है रमज़ान की तरह

- Sarfaraz Shahid
0 Likes

Charagh Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Sarfaraz Shahid

As you were reading Shayari by Sarfaraz Shahid

Similar Writers

our suggestion based on Sarfaraz Shahid

Similar Moods

As you were reading Charagh Shayari Shayari