raat be-parda si lagti hai mujhe | रात बे-पर्दा सी लगती है मुझे - Shariq Kaifi

raat be-parda si lagti hai mujhe
khauf ne aisi nazar di hai mujhe

aah is maasoom ko kaise bataaun
kyun use khone ki jaldi hai mujhe

josh mein hain is qadar teemaardaar
theek hote sharm aati hai mujhe

ik lateefa jo samajh mein bhi na aaye
us pe hansna kyun zaroori hai mujhe

muntashir hone lage saare khayal
neend bas aane hi waali hai mujhe

ab junoon kam hone waala hai mera
khair itni to tasalli hai mujhe

laakh madhham ho tiri chaahat ki lau
raushni utni hi kaafi hai mujhe

gard hai baarood ki sar mein to kya
maut ik afwaah lagti hai mujhe

रात बे-पर्दा सी लगती है मुझे
ख़ौफ़ ने ऐसी नज़र दी है मुझे

आह इस मासूम को कैसे बताऊँ
क्यूँ उसे खोने की जल्दी है मुझे

जोश में हैं इस क़दर तीमारदार
ठीक होते शर्म आती है मुझे

इक लतीफ़ा जो समझ में भी न आए
उस पे हँसना क्यूँ ज़रूरी है मुझे

मुंतशिर होने लगे सारे ख़याल
नींद बस आने ही वाली है मुझे

अब जुनूँ कम होने वाला है मिरा
ख़ैर इतनी तो तसल्ली है मुझे

लाख मद्धम हो तिरी चाहत की लौ
रौशनी उतनी ही काफ़ी है मुझे

गर्द है बारूद की सर में तो क्या
मौत इक अफ़्वाह लगती है मुझे

- Shariq Kaifi
2 Likes

I Miss you Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shariq Kaifi

As you were reading Shayari by Shariq Kaifi

Similar Writers

our suggestion based on Shariq Kaifi

Similar Moods

As you were reading I Miss you Shayari Shayari