hausale ki kami se darta hoon | हौसले की कमी से डरता हूँ - Shaukat Pardesi

hausale ki kami se darta hoon
door ki raushni se darta hoon

dekh kar bastiyon ki veeraani
ab to har aadmi se darta hoon

aql taaron ko choo ke aati hai
aur main chaandni se darta hoon

pehle darta tha teergi se main
aur ab raushni se darta hoon

meri bechaargi to ye bhi hai
aap ki dosti se darta hoon

ye bhi ik faas bin na jaaye kahi
gham ki aasoodagi se darta hoon

tum to tark-e-wafa bhi kar loge
aur mein us ghadi se darta hoon

be-gharz kaun hai ki ai shaaukat
main ye kah doon usi se darta hoon

हौसले की कमी से डरता हूँ
दूर की रौशनी से डरता हूँ

देख कर बस्तियों की वीरानी
अब तो हर आदमी से डरता हूँ

अक़्ल तारों को छू के आती है
और मैं चाँदनी से डरता हूँ

पहले डरता था तीरगी से मैं
और अब रौशनी से डरता हूँ

मेरी बेचारगी तो ये भी है
आप की दोस्ती से डरता हूँ

ये भी इक फाँस बिन न जाए कहीं
ग़म की आसूदगी से डरता हूँ

तुम तो तर्क-ए-वफ़ा भी कर लोगे
और में उस घड़ी से डरता हूँ

बे-ग़रज़ कौन है कि ऐ 'शौकत'
मैं ये कह दूँ उसी से डरता हूँ

- Shaukat Pardesi
3 Likes

Aadmi Shayari

Our suggestion based on your choice

Similar Writers

our suggestion based on Shaukat Pardesi

Similar Moods

As you were reading Aadmi Shayari Shayari