isiliye to yahan ratjaga ziyaada hai | इसीलिए तो यहाँ रतजगा ज़ियादा है - Tajdeed Qaiser

isiliye to yahan ratjaga ziyaada hai
ki mere khwaab mein vo jaagta ziyaada hai

mujhe to door se aadat hai usko takne ki
so uska ek nazar dekhna ziyaada hai

use tameez bhi to honi chahiye thi phir
agar vo aap se likha padha ziyaada hai

main har kisi pe bahut aitibaar karti hoon
khushi ki baat hai par saanehaa ziyaada hai

इसीलिए तो यहाँ रतजगा ज़ियादा है
कि मेरे ख़्वाब में वो जागता ज़ियादा है

मुझे तो दूर से आदत है उसको तकने की
सो उसका एक नज़र देखना ज़ियादा है

उसे तमीज़ भी तो होनी चाहिए थी फिर
अगर वो आप से लिखा पढ़ा ज़ियादा है

मैं हर किसी पे बहुत ऐतिबार करती हूँ
ख़ुशी की बात है पर सानेहा ज़ियादा है

- Tajdeed Qaiser
13 Likes

Aadat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tajdeed Qaiser

As you were reading Shayari by Tajdeed Qaiser

Similar Writers

our suggestion based on Tajdeed Qaiser

Similar Moods

As you were reading Aadat Shayari Shayari