sitaara choom ke khud ko jala liya hoga | सितारा चूम के ख़ुद को जला लिया होगा - Tajdeed Qaiser

sitaara choom ke khud ko jala liya hoga
zameen waalon ne sab aazma liya hoga

tumhaari deed ko bakhshish samajhta hai koi
so usne aankh ko qaasa bana liya hoga

kisi se shaadi hi ki hogi usne mere baad
dukaan bech ke ghar hi bana liya hoga

tumhein yun chhod ke is gark hoti basti mein
tumhaare bete ne kitna kama liya hoga

bade hi pyaar se usne hamesha ki tarah
kisi ka aakhiri jumla chura liya hoga

khuda hi khair kare unki jin ghareebon ne
tumhaare pyaar mein sab kuchh luta liya hoga

hamaari rooh tumhein aaj bhi nahin tajdeed
kisi ne jism ka malba utha liya hoga

सितारा चूम के ख़ुद को जला लिया होगा
ज़मीन वालों ने सब आज़मा लिया होगा

तुम्हारी दीद को बख़्शिश समझता है कोई
सो उसने आँख को कासा बना लिया होगा

किसी से शादी ही की होगी उसने मेरे बाद
दुकान बेच के घर ही बना लिया होगा

तुम्हें यूँ छोड़ के इस ग़र्क होती बस्ती में
तुम्हारे बेटे ने कितना कमा लिया होगा

बड़े ही प्यार से उसने हमेशा की तरह
किसी का आख़िरी जुमला चुरा लिया होगा

ख़ुदा ही ख़ैर करे उनकी जिन ग़रीबों ने
तुम्हारे प्यार में सब कुछ लुटा लिया होगा

हमारी रूह तुम्हें आज भी नहीं 'तजदीद'
किसी ने जिस्म का मलबा उठा लिया होगा

- Tajdeed Qaiser
11 Likes

Ghar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tajdeed Qaiser

As you were reading Shayari by Tajdeed Qaiser

Similar Writers

our suggestion based on Tajdeed Qaiser

Similar Moods

As you were reading Ghar Shayari Shayari