kab paani girne se khushboo footi hai | कब पानी गिरने से ख़ुशबू फूटी है - Tehzeeb Hafi

kab paani girne se khushboo footi hai
mitti ko bhi ilm hai baarish jhoothi hai

ek rishte ko laaparwaahi le doobi
ek rassi dheeli padne par tooti hai

haath milaane par bhi us pe khula nahin
ye ungli par zakham hai ya angoothi hai

uska hansna naa-mumkin tha yun samjho
seement ki deewaar se kopale footi hai

hamne in par sher nahin likkhe haafi
hamne in pedon ki izzat looti hai

yun lagta hai deen-o-duniya chhoot gaye
mujh se tere shehar ki bas kya chhooti hai

कब पानी गिरने से ख़ुशबू फूटी है
मिट्टी को भी इल्म है बारिश झूठी है

एक रिश्ते को लापरवाही ले डूबी
एक रस्सी ढीली पड़ने पर टूटी है

हाथ मिलाने पर भी उस पे खुला नहीं
ये उँगली पर ज़ख़्म है या अँगूठी है

उसका हँसना ना-मुमकिन था यूँ समझो
सीमेंट की दीवार से कोपल फूटी है

हमने इन पर शेर नहीं लिक्खे हाफ़ी
हमने इन पेड़ों की इज़्ज़त लूटी है

यूँ लगता है दीन-ओ-दुनिया छूट गए
मुझ से तेरे शहर की बस क्या छूटी है

- Tehzeeb Hafi
76 Likes

Khuddari Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Khuddari Shayari Shayari