paraai aag pe roti nahin banaoonga | पराई आग पे रोटी नहीं बनाऊँगा - Tehzeeb Hafi

paraai aag pe roti nahin banaoonga
main bheeg jaaunga chhatri nahin banaoonga

agar khuda ne banaane ka ikhtiyaar diya
alam banaoonga barchi nahin banaoonga

fareb de ke tira jism jeet luun lekin
main ped kaat ke kashti nahin banaoonga

gali se koi bhi guzre to chaunk uthata hoon
naye makaan mein khidki nahin banaoonga

main dushmanon se agar jang jeet bhi jaaun
to un ki auratein qaaidi nahin banaoonga

tumhein pata to chale be-zabaan cheez ka dukh
main ab charaagh ki lau hi nahin banaoonga

main ek film banaoonga apne sarwat par
aur is mein rail ki patri nahin banaoonga

पराई आग पे रोटी नहीं बनाऊँगा
मैं भीग जाऊँगा छतरी नहीं बनाऊँगा

अगर ख़ुदा ने बनाने का इख़्तियार दिया
अलम बनाऊँगा बर्छी नहीं बनाऊँगा

फ़रेब दे के तिरा जिस्म जीत लूँ लेकिन
मैं पेड़ काट के कश्ती नहीं बनाऊँगा

गली से कोई भी गुज़रे तो चौंक उठता हूँ
नए मकान में खिड़की नहीं बनाऊँगा

मैं दुश्मनों से अगर जंग जीत भी जाऊँ
तो उन की औरतें क़ैदी नहीं बनाऊँगा

तुम्हें पता तो चले बे-ज़बान चीज़ का दुख
मैं अब चराग़ की लौ ही नहीं बनाऊँगा

मैं एक फ़िल्म बनाऊँगा अपने 'सरवत' पर
और इस में रेल की पटरी नहीं बनाऊँगा

- Tehzeeb Hafi
80 Likes

Badan Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Badan Shayari Shayari