ye kaise saanhe ab pesh aane lag gaye hain | ये कैसे सानहे अब पेश आने लग गए हैं - Vikram Sharma

ye kaise saanhe ab pesh aane lag gaye hain
tere aaghosh mein ham chatt-patane lag gaye hain

bahut mumkin hai koi teer ham ko aa lagega
ham aise log jo panchi udaane lag gaye hain

hamaare bin bhala tanhaai ghar mein kya hi karti
use bhi saath hi office mein laane lag gaye hain

badan par yaad ki baarish ke chheente pad gaye the
paraai dhoop mein un ko sukhaane lag gaye hain

hawa ke ek hi jhonke mein ye fal gir padenge
ye boodhe ped ke kandhe jhukaane lag gaye hain

nazar ke chauk pe baarish jhamaajham gir rahi hai
to dil ke room mein gaane purane lag gaye hain

ये कैसे सानहे अब पेश आने लग गए हैं
तेरे आग़ोश में हम छट-पटाने लग गए हैं

बहुत मुमकिन है कोई तीर हम को आ लगेगा
हम ऐसे लोग जो पंछी उड़ाने लग गए हैं

हमारे बिन भला तन्हाई घर में क्या ही करती
उसे भी साथ ही ऑफ़िस में लाने लग गए हैं

बदन पर याद की बारिश के छींटे पड़ गए थे
पराई धूप में उन को सुखाने लग गए हैं

हवा के एक ही झोंके में ये फल गिर पड़ेंगे
ये बूढे पेड़ के कंधे झुकाने लग गए हैं

नज़र के चौक पे बारिश झमाझम गिर रही है
तो दिल के रूम में गाने पुराने लग गए हैं

- Vikram Sharma
0 Likes

Baarish Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vikram Sharma

As you were reading Shayari by Vikram Sharma

Similar Writers

our suggestion based on Vikram Sharma

Similar Moods

As you were reading Baarish Shayari Shayari