nazar ik saaya-e-abr-e-bala par jam gai hai | नज़र इक साया-ए-अब्र-ए-बला पर जम गई है - Vipul Kumar

nazar ik saaya-e-abr-e-bala par jam gai hai
ye kaalikh dil se utri hai ghatta par jam gai hai

main har but ko hararat ki kashish batla raha hoon
ajab ik barf mere devta par jam gai hai

zaroor agli rutein ab raasta bhatkengi isse
ye jo kuchh ret mere naqsh-e-paa par jam gai hai

badan par naqsh rah jaate hain aur dil mein nadaamat
kisi lamhe ki ujlat dast-o-pa par jam gai hai

hamaare sar to aakhir khaak hi hone the ik din
ye kaisi raushni teg-e-jafa par jam gai hai

chhupaana chahta tha main use sher'on mein apne
ab ik aalam ki aankh us bewafa par jam gai hai

hamaare paanv mein chakkar hai vo bhi chaand ka hai
sitaaron ki thakan uski rida par jam gai hai

नज़र इक साया-ए-अब्र-ए-बला पर जम गई है
ये कालिख दिल से उतरी है घटा पर जम गई है

मैं हर बुत को हरारत की कशिश बतला रहा हूँ
अजब इक बर्फ़ मेरे देवता पर जम गई है

ज़रूर अगली रुतें अब रास्ता भटकेंगी इससे
ये जो कुछ रेत मेरे नक़्श-ए-पा पर जम गई है

बदन पर नक़्श रह जाते हैं और दिल में नदामत
किसी लम्हे की उजलत दस्त-ओ-पा पर जम गई है

हमारे सर तो आख़िर ख़ाक ही होने थे इक दिन
ये कैसी रौशनी तेग़-ए-जफ़ा पर जम गई है

छुपाना चाहता था मैं उसे शे'रों में अपने
अब इक आलम की आँख उस बेवफ़ा पर जम गई है

हमारे पाँव में चक्कर है वो भी चाँद का है
सितारों की थकन उसकी रिदा पर जम गई है

- Vipul Kumar
0 Likes

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vipul Kumar

As you were reading Shayari by Vipul Kumar

Similar Writers

our suggestion based on Vipul Kumar

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari