ye majma tumko sunna chahta hai | ये मजमा तुमको सुनना चाहता है - Zia Mazkoor

ye majma tumko sunna chahta hai
wagarana shor kis ka mas'ala hai

mujhe ab aur kitna rona hoga
tira kitna baqaya rah gaya hai

khushi mehsoos karne waali shay thi
parindon ko uda kar kya mila hai

dariche band hote ja rahe hain
tamasha thanda padta ja raha hai

tumheen mazmoon baandho shayari mein
apun lahja banaana maangata hai

ye kaase jald bharne lag gaye hain
bhikaari baddua dene laga hai

tumhaari ek din ki soch hai
aur hamaara umr-bhar ka tajruba hai

ये मजमा तुमको सुनना चाहता है
वगरना शोर किस का मसअला है

मुझे अब और कितना रोना होगा
तिरा कितना बक़ाया रह गया है

ख़ुशी महसूस करने वाली शय थी
परिन्दों को उड़ा कर क्या मिला है

दरीचे बन्द होते जा रहे हैं
तमाशा ठंडा पड़ता जा रहा है

तुम्हीं मज़मून बाँधो शायरी में
अपुन लहजा बनाना माँगता है

ये कासे जल्द भरने लग गए हैं
भिखारी बद्‌दुआ देने लगा है

तुम्हारी एक दिन की सोच है और
हमारा उम्र भर का तजरबा है

- Zia Mazkoor
1 Like

Gham Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Zia Mazkoor

As you were reading Shayari by Zia Mazkoor

Similar Writers

our suggestion based on Zia Mazkoor

Similar Moods

As you were reading Gham Shayari Shayari