kya hi mil jaayega tum ko mujhe tadpaane se | क्या ही मिल जाएगा तुम को मुझे तड़पाने से - Zohaib Azmi

kya hi mil jaayega tum ko mujhe tadpaane se
rokte kyun ho mujhe apne qareeb aane se

shehar waalon se kaha us ne utha kar patthar
koi rishta hi nahin hai mera deewane se

jannat-o-hoor ke qisson mein mujhe uljha kar
shaikh jee aap kahaan chal diye maykhaane se

munh se phir khoon ugalta hi firega shab-bhar
gar jo zaahid kabhi pee le mere paimaane se

ye mera shauq mujhe aaj kahaan le aaya
meri mayyat bhi uthi hai to kutub-khaane se

mere hisse mein jo chadar hai likhi tu ne khuda
kam na pad jaaye kahi paanv ko failaane se

mujh ko ik khwaab ne itna hai rulaaya ki zuhaib
ab to dar lagta hai palkon ko bhi jhapkaane se

क्या ही मिल जाएगा तुम को मुझे तड़पाने से
रोकते क्यों हो मुझे अपने क़रीब आने से

शहर वालों से कहा उस ने उठा कर पत्थर
कोई रिश्ता ही नहीं है मिरा दीवाने से

जन्नत-ओ-हूर के क़िस्सों में मुझे उलझा कर
शैख़ जी आप कहाँ चल दिए मयख़ाने से

मुँह से फिर ख़ून उगलता ही फिरेगा शब-भर
गर जो ज़ाहिद कभी पी ले मिरे पैमाने से

ये मिरा शौक़ मुझे आज कहाँ ले आया
मेरी मय्यत भी उठी है तो कुतुब-ख़ाने से

मेरे हिस्से में जो चादर है लिखी तू ने ख़ुदा
कम न पड़ जाए कहीं पाँव को फैलाने से

मुझ को इक ख़्वाब ने इतना है रुलाया कि 'ज़ुहैब'
अब तो डर लगता है पलकों को भी झपकाने से

- Zohaib Azmi
1 Like

Relationship Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Zohaib Azmi

As you were reading Shayari by Zohaib Azmi

Similar Writers

our suggestion based on Zohaib Azmi

Similar Moods

As you were reading Relationship Shayari Shayari