ghazal ka husn hai aur geet ka shabaab hai vo | ग़ज़ल का हुस्न है और गीत का शबाब है वो - Afzal Allahabadi

ghazal ka husn hai aur geet ka shabaab hai vo
nasha hai jis mein sukhun ka wahi sharaab hai vo

use na dekh mahakta hua gulaab hai vo
na jaane kitni nigaahon ka intikhaab hai vo

misaal mil na saki kaayenaat mein us ki
jawaab us ka nahin koi la-jawaab hai vo

meri in aankhon ko taabeer mil nahin paati
jise main dekhta rehta hoon aisa khwaab hai vo

na jaane kitne hijaabo mein vo chhupa hai magar
nigaah-e-dil se jo dekhoon to be-hijaab hai vo

ujaale apne luta kar vo doob jaayega
haseen subh ka rakhshanda aftaab hai vo

vo mujh se poochne aaya hai mera haal afzal
jise bata na sakoon dil mein iztiraab hai vo

ग़ज़ल का हुस्न है और गीत का शबाब है वो
नशा है जिस में सुख़न का वही शराब है वो

उसे न देख महकता हुआ गुलाब है वो
न जाने कितनी निगाहों का इंतिख़ाब है वो

मिसाल मिल न सकी काएनात में उस की
जवाब उस का नहीं कोई ला-जवाब है वो

मिरी इन आँखों को ताबीर मिल नहीं पाती
जिसे मैं देखता रहता हूँ ऐसा ख़्वाब है वो

न जाने कितने हिजाबों में वो छुपा है मगर
निगाह-ए-दिल से जो देखूँ तो बे-हिजाब है वो

उजाले अपने लुटा कर वो डूब जाएगा
हसीन सुब्ह का रख़्शंदा आफ़्ताब है वो

वो मुझ से पूछने आया है मेरा हाल 'अफ़ज़ल'
जिसे बता न सकूँ दिल में इज़्तिराब है वो

- Afzal Allahabadi
1 Like

Gulaab Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Afzal Allahabadi

As you were reading Shayari by Afzal Allahabadi

Similar Writers

our suggestion based on Afzal Allahabadi

Similar Moods

As you were reading Gulaab Shayari Shayari