aankhon mein jo ek khwaab sa hai | आँखों में जो एक ख़्वाब सा है - Akhtar Saeed Khan

aankhon mein jo ek khwaab sa hai
aalam kya kya dikha raha hai

aalam ik intizaar ka hai
khulta nahin intizaar kya hai

qatra qatra jo pee chuka hai
dariya dariya pukaarta hai

kya kah gai zindagi ki aahat
jo hai kisi soch mein khada hai

ai mauj-e-naseem-e-subh-gaahi
har gunche ka dil dhadak raha hai

tum aur zara qareeb aa jaao
khanjar rag-e-jaan tak aa gaya hai

hai deedaani rang-e-roo-e-qaatil
har zakham jawaab maangata hai

ai dasht-e-junoon gawaah rahna
kaante hain aur ik barhana-pa hai

aasaar achhe nahin shab-e-hijr
dil ko kuchh qaraar sa hai

lafzon ko zabaan mil rahi hai
shaayad akhtar ghazal-sara hai

आँखों में जो एक ख़्वाब सा है
आलम क्या क्या दिखा रहा है

आलम इक इंतिज़ार का है
खुलता नहीं इंतिज़ार क्या है

क़तरा क़तरा जो पी चुका है
दरिया दरिया पुकारता है

क्या कह गई ज़िंदगी की आहट
जो है किसी सोच में खड़ा है

ऐ मौज-ए-नसीम-ए-सुब्ह-गाही
हर ग़ुंचे का दिल धड़क रहा है

तुम और ज़रा क़रीब आ जाओ
ख़ंजर रग-ए-जाँ तक आ गया है

है दीदनी रंग-ए-रू-ए-क़ातिल
हर ज़ख़्म जवाब माँगता है

ऐ दश्त-ए-जुनूँ गवाह रहना
काँटे हैं और इक बरहना-पा है

आसार अच्छे नहीं शब-ए-हिज्र
दिल को कुछ क़रार सा है

लफ़्ज़ों को ज़बान मिल रही है
शायद 'अख़्तर' ग़ज़ल-सरा है

- Akhtar Saeed Khan
0 Likes

Fantasy Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akhtar Saeed Khan

As you were reading Shayari by Akhtar Saeed Khan

Similar Writers

our suggestion based on Akhtar Saeed Khan

Similar Moods

As you were reading Fantasy Shayari Shayari