aaj bhi tingi ki qismat mein | आज भी तिनगी की क़िस्मत में - Ali Zaryoun

aaj bhi tingi ki qismat mein
sam-e-qaatil hai salsabeel nahin

sab khuda ke wakeel hain lekin
aadmi ka koi wakeel nahin

hai kushaada azal se roo-e-zameen
haram-o dair be-faseel nahin

zindagi apne rog se hai tabaah
aur darmaan ki kuchh sabeel nahin

tum bahut jaazib-o-jameel sahi
zindagi jaazib-o-jameel nahin

na karo bahs haar jaayogi
husn itni badi daleel nahin

आज भी तिनगी की क़िस्मत में
सम-ए-क़ातिल है सलसबील नहीं

सब ख़ुदा के वकील हैं लेकिन
आदमी का कोई वकील नहीं

है कुशादा अज़ल से रू-ए-ज़मीं
हरम-ओ- दैर बे-फ़सील नहीं

जिंदगी अपने रोग से है तबाह
और दरमाँ की कुछ सबील नहीं

तुम बहुत जाज़िब-ओ-जमील सही
ज़िंदगी जाज़िब-ओ-जमील नहीं

न करो बहस हार जाओगी
हुस्न इतनी बड़ी दलील नहीं

- Ali Zaryoun
5 Likes

Azal Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ali Zaryoun

As you were reading Shayari by Ali Zaryoun

Similar Writers

our suggestion based on Ali Zaryoun

Similar Moods

As you were reading Azal Shayari Shayari