nazar andaaz hai ghaayal pade hai | नज़र अंदाज है घायल पड़े है - Ali Zaryoun

nazar andaaz hai ghaayal pade hai
kai dariya kai jungle pade hai

nazar uthi hai uski meri jaanib
kai peshaaniyon par bal pade hai

main uska khat baha ke aaraha hu
mere baazu abhi tak shal pade hai

use kehna ke kal terrace par aaye
use kehna ke baadal chal pade hai

नज़र अंदाज है घायल पड़े है
कई दरिया कई जंगल पड़े है

नजर उठी है उसकी मेरी जानिब
कई पेशानियों पर बल पड़े है

मैं उसका ख़त बहा के आरहा हु
मेरे बाजू अभी तक शल पड़े है

उसे कहना के कल टेरिस पर आये
उसे कहना के बादल चल पड़े है

- Ali Zaryoun
9 Likes

Environment Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ali Zaryoun

As you were reading Shayari by Ali Zaryoun

Similar Writers

our suggestion based on Ali Zaryoun

Similar Moods

As you were reading Environment Shayari Shayari