aankhon mein raha dil mein utar kar nahin dekha | आंखों में रहा दिल में उतर कर नहीं देखा - Bashir Badr

aankhon mein raha dil mein utar kar nahin dekha
kashti ke musaafir ne samundar nahin dekha

be-waqt agar jaaunga sab chaunk padenge
ik umr hui din mein kabhi ghar nahin dekha

jis din se chala hoon meri manzil pe nazar hai
aankhon ne kabhi meel ka patthar nahin dekha

ye phool mujhe koi viraasat mein mile hain
tum ne mera kaanton bhara bistar nahin dekha

yaaron ki mohabbat ka yaqeen kar liya maine
phoolon mein chhupaaya hua khanjar nahin dekha

mehboob ka ghar ho ki buzurgon ki zameenen
jo chhod diya phir use mud kar nahin dekha

khat aisa likha hai ki nageene se jade hain
vo haath ki jis ne koi zewar nahin dekha

patthar mujhe kehta hai mera chaahne waala
main mom hoon us ne mujhe choo kar nahin dekha

आंखों में रहा दिल में उतर कर नहीं देखा
कश्ती के मुसाफ़िर ने समुंदर नहीं देखा

बे-वक़्त अगर जाऊंगा सब चौंक पड़ेंगे
इक उम्र हुई दिन में कभी घर नहीं देखा

जिस दिन से चला हूं मिरी मंज़िल पे नज़र है
आंखों ने कभी मील का पत्थर नहीं देखा

ये फूल मुझे कोई विरासत में मिले हैं
तुम ने मिरा कांटों भरा बिस्तर नहीं देखा

यारों की मोहब्बत का यक़ीं कर लिया मैंने
फूलों में छुपाया हुआ ख़ंजर नहीं देखा

महबूब का घर हो कि बुज़ुर्गों की ज़मीनें
जो छोड़ दिया फिर उसे मुड़ कर नहीं देखा

ख़त ऐसा लिखा है कि नगीने से जड़े हैं
वो हाथ कि जिस ने कोई ज़ेवर नहीं देखा

पत्थर मुझे कहता है मिरा चाहने वाला
मैं मोम हूं उस ने मुझे छू कर नहीं देखा

- Bashir Badr
25 Likes

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bashir Badr

As you were reading Shayari by Bashir Badr

Similar Writers

our suggestion based on Bashir Badr

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari