saare manzar dilkash the har baat suhaani lagti thi | सारे मंज़र दिलकश थे हर बात सुहानी लगती थी - Farah Iqbal

saare manzar dilkash the har baat suhaani lagti thi
jeevan ki har shaam humein tab ek kahaani lagti thi

jis ka chaand sa chehra tha aur zulf sunhari baadal si
mast hawa ka aanchal thaame ek divaani lagti thi

apne khwaab naye lagte the aur phir un ke aage sab
duniya aur zamaane ki har baat puraani lagti thi

pyaar ke mausam ki khushboo se guncha guncha mahka tha
mahki mahki duniya saari raat ki raani lagti thi

lamhon ke rangeen ghubaare haath se chhoote jaate the
mausam dukh ka dard ki rut sab aani-jaani lagti thi

qaus-e-quzah ki baarish mein ye jazbon ki munh zor hawa
mauj udaate bal khaate dariya ki rawaani lagti thi

ab dekhen to door kahi par yaadon ki fulwaari mein
rangon se bharpoor fazaa thi jo laafaani lagti thi

सारे मंज़र दिलकश थे हर बात सुहानी लगती थी
जीवन की हर शाम हमें तब एक कहानी लगती थी

जिस का चाँद सा चेहरा था और ज़ुल्फ़ सुनहरी बादल सी
मस्त हवा का आँचल थामे एक दिवानी लगती थी

अपने ख़्वाब नए लगते थे और फिर उन के आगे सब
दुनिया और ज़माने की हर बात पुरानी लगती थी

प्यार के मौसम की ख़ुशबू से ग़ुंचा ग़ुंचा महका था
महकी महकी दुनिया सारी रात की रानी लगती थी

लम्हों के रंगीन ग़ुबारे हाथ से छूटे जाते थे
मौसम दुख का दर्द की रुत सब आनी-जानी लगती थी

क़ौस-ए-क़ुज़ह की बारिश में ये जज़्बों की मुँह ज़ोर हवा
मौज उड़ाते बल खाते दरिया की रवानी लगती थी

अब देखें तो दूर कहीं पर यादों की फुलवारी में
रंगों से भरपूर फ़ज़ा थी जो लाफ़ानी लगती थी

- Farah Iqbal
6 Likes

Baarish Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Farah Iqbal

As you were reading Shayari by Farah Iqbal

Similar Writers

our suggestion based on Farah Iqbal

Similar Moods

As you were reading Baarish Shayari Shayari