teri qaamyaabi meri qaamyaabi barabar nahin | तेरी क़ामयाबी, मेरी क़ामयाबी बराबर नहीं - Gourav Kumar

teri qaamyaabi meri qaamyaabi barabar nahin
yahan tak pahunchne mein mehnat hai meri muqaddar nahin

khuda ne yahan kaise kaison ki jholi mein kya kya diya
hamein maut ke waqt bhi teri baanhe mayassar nahin

use apni ghalti ka ehsaas hota raha umr bhar
main ruksat hua tha use choom kar lad-jhagad kar nahin

ujaala banaana to tha par andhera mitaana na tha
naya ishq karna tha lekin puraana bhula kar nahin

ye vehshat ke badhne se samjhe isee roz bichhde the ham
wagarana to sehra mein koi calendar-valendar nahin

isee naam-o-soorat ka ik shakhs is ghar mein rehta to hai
magar dhundhti ho jise tum vo arse se ghar par nahin

तेरी क़ामयाबी, मेरी क़ामयाबी बराबर नहीं
यहाँ तक पहुँचने में मेहनत है मेरी मुक़द्दर नहीं

ख़ुदा ने यहाँ कैसे कैसों की झोली में क्या क्या दिया
हमें मौत के वक़्त भी तेरी बाँहें मयस्सर नहीं

उसे अपनी ग़लती का एहसास होता रहा उम्र भर
मैं रुख़्सत हुआ था उसे चूम कर, लड़-झगड़ कर नहीं

उजाला बनाना तो था पर अँधेरा मिटाना न था
नया इश्क़ करना था लेकिन पुराना भुला कर नहीं

ये वहशत के बढ़ने से समझे इसी रोज़ बिछड़े थे हम
वगरना तो सहरा में कोई कैलेंडर-वैलेंडर नहीं

इसी नाम-ओ-सूरत का इक शख़्स इस घर में रहता तो है
मगर ढूँढ़ती हो जिसे तुम वो अरसे से घर पर नहीं

- Gourav Kumar
7 Likes

Qabr Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Gourav Kumar

As you were reading Shayari by Gourav Kumar

Similar Writers

our suggestion based on Gourav Kumar

Similar Moods

As you were reading Qabr Shayari Shayari