us sitamgar ki meherbaani se | उस सितमगर की मेहरबानी से - Gulzar Dehlvi

us sitamgar ki meherbaani se
dil uljhta hai zindagaani se

khaak se kitni sooraten ubhri
dhul gaye naqsh kitne paani se

hum se poocho to zulm behtar hai
in haseenon ki meherbaani se

aur bhi kya qayamat aayegi
poochna hai tiri jawaani se

dil sulagta hai ashk bahte hain
aag bujhti nahin hai paani se

hasrat-e-umr-e-javedaan le kar
ja rahe hain sara-e-faani se

haaye kya daur-e-zindagi guzra
waqie ho gaye kahaani se

kitni khush-fahmiyon ke but tode
tu ne gulzaar khush-bayaani se

उस सितमगर की मेहरबानी से
दिल उलझता है ज़िंदगानी से

ख़ाक से कितनी सूरतें उभरीं
धुल गए नक़्श कितने पानी से

हम से पूछो तो ज़ुल्म बेहतर है
इन हसीनों की मेहरबानी से

और भी क्या क़यामत आएगी
पूछना है तिरी जवानी से

दिल सुलगता है अश्क बहते हैं
आग बुझती नहीं है पानी से

हसरत-ए-उम्र-ए-जावेदाँ ले कर
जा रहे हैं सरा-ए-फ़ानी से

हाए क्या दौर-ए-ज़िंदगी गुज़रा
वाक़िए हो गए कहानी से

कितनी ख़ुश-फ़हमियों के बुत तोड़े
तू ने गुलज़ार ख़ुश-बयानी से

- Gulzar Dehlvi
0 Likes

Aansoo Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Gulzar Dehlvi

As you were reading Shayari by Gulzar Dehlvi

Similar Writers

our suggestion based on Gulzar Dehlvi

Similar Moods

As you were reading Aansoo Shayari Shayari