uljhta jaaye hai daaman kisi ka | उलझता जाए है दामन किसी का - Manu Bharadwaj

uljhta jaaye hai daaman kisi ka
khudaara dekhiyega fan kisi ka

kahi zulfen sanwaari ja rahi hain
pukaare hai mujhe darpan kisi ka

kisi ke ghar pe khushiyon ki fiza hai
sulagta hai kahi gulshan kisi ka

mere seene mein tum kahte ho dil hai
mujhe lagta hai ye madfan kisi ka

hamaara ghar hamaara ghar nahin hai
kisi ki chat to hai aangan kisi ka

na hak cheeno kisi ka ai luteron
na luto is tarah jeevan kisi ka

labon pe aah thi aankhon mein aansoon
manu guzra hai yun saawan kisi ka

उलझता जाए है दामन किसी का
ख़ुदारा देखिएगा फन किसी का

कहीं जुल्फें संवारी जा रही हैं
पुकारे है मुझे दरपन किसी का

किसी के घर पे खुशियों की फिज़ा है
सुलगता है कहीं गुलशन किसी का

मेरे सीने में तुम कहते हो दिल है
मुझे लगता है ये मदफन किसी का

हमारा घर, हमारा घर नहीं है
किसी की छत तो है आँगन किसी का

न हक छीनो किसी का ऐ लुटेरों
न लूटो इस तरह जीवन किसी का

लबों पे आह थी, आँखों में आँसूं
'मनु' गुज़रा है यूँ सावन किसी का

- Manu Bharadwaj
1 Like

Zulf Shayari

Our suggestion based on your choice

Similar Writers

our suggestion based on Manu Bharadwaj

Similar Moods

As you were reading Zulf Shayari Shayari