waisa kahaan hai ham se jaisa ki aage tha tu | वैसा कहाँ है हम से जैसा कि आगे था तू - Meer Taqi Meer

waisa kahaan hai ham se jaisa ki aage tha tu
auron se mil ke pyaare kuchh aur ho gaya tu

chaalein tamaam be-dhab baatein fareb hain sab
haasil ki ai shukr lab ab vo nahin raha tu

jaate nahin uthaaye ye shor har sehar ke
ya ab chaman mein bulbul ham hi rahenge ya tu

aa abr ek do dam aapas mein rakhen sohbat
kudhne ko hoon main aandhi rone ko hai bala tu

taqreeb par bhi to tu pahluu tahee kare hai
das baar eed aayi kab kab gale mila tu

tere dehan se us ko nisbat ho kuchh to kahiye
gul go kare hai da'wa khaatir mein kuchh na la tu

dil kyoonke raast aave daava-e-aashnaai
dariya-e-husn vo mah-e-kashti-b-kaf gada tu

har fard yaas abhi se daftar hai tujh gale ka
hai qahar jab ki hoga harfon se aashna tu

aalam hai shauq-e-kushta-e-khilkat hai teri rafta
jaanon ki aarzoo tu aankhon ka muddaa tu

munh kariye jis taraf ko so hi tiri taraf hai
par kuchh nahin hai paida kidhar hai ae khuda tu

aati b-khud nahin hai baad-e-bahaar ab tak
do gaam tha chaman mein tak naaz se chala tu

kam meri aur aana kam aankh ka milaana
karne se ye adaayein hai muddaa ki ja tu

guft-o-shunood akshar mere tire rahe hai
zalim mua'af rakhiyo mera kaha-suna to

kah saanjh ke mooe ko ai meer roein kab tak
jaise charaag-e-muflis ik-dam mein jal bujha to

वैसा कहाँ है हम से जैसा कि आगे था तू
औरों से मिल के प्यारे कुछ और हो गया तू

चालें तमाम बे-ढब बातें फ़रेब हैं सब
हासिल कि ऐ शुक्र लब अब वो नहीं रहा तू

जाते नहीं उठाए ये शोर हर सहर के
या अब चमन में बुलबुल हम ही रहेंगे या तू

आ अब्र एक दो दम आपस में रखें सोहबत
कुढ़ने को हूँ मैं आँधी रोने को है बला तू

तक़रीब पर भी तो तू पहलू तही करे है
दस बार ईद आई कब कब गले मिला तू

तेरे दहन से उस को निस्बत हो कुछ तो कहिए
गुल गो करे है दा'वा ख़ातिर में कुछ न ला तू

दिल क्यूँके रास्त आवे दावा-ए-आश्नाई
दरिया-ए-हुस्न वो मह-ए-कश्ती-ब-कफ़ गदा तू

हर फ़र्द यास अभी से दफ़्तर है तुझ गले का
है क़हर जब कि होगा हर्फ़ों से आश्ना तू

आलम है शौक़-ए-कुश्ता-ए-ख़िल्क़त है तेरी रफ़्ता
जानों की आरज़ू तू आँखों का मुद्दआ' तू

मुँह करिए जिस तरफ़ को सो ही तिरी तरफ़ है
पर कुछ नहीं है पैदा कीधर है ए ख़ुदा तू

आती ब-ख़ुद नहीं है बाद-ए-बहार अब तक
दो गाम था चमन में टक नाज़ से चला तू

कम मेरी और आना कम आँख का मिलाना
करने से ये अदाएँ है मुद्दआ' कि जा तू

गुफ़्त-ओ-शुनूद अक्सर मेरे तिरे रहे है
ज़ालिम मुआ'फ़ रखियो मेरा कहा-सुना तो

कह साँझ के मूए को ऐ 'मीर' रोईं कब तक
जैसे चराग़-ए-मुफ़्लिस इक-दम में जल बुझा तो

- Meer Taqi Meer
1 Like

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari