gham khaane mein boodaa dil-e-naakaam bahut hai | ग़म खाने में बूदा दिल-ए-नाकाम बहुत है - Mirza Ghalib

gham khaane mein boodaa dil-e-naakaam bahut hai
ye ranj ki kam hai may-e-gulfaam bahut hai

kahte hue saaqi se haya aati hai warna
hai yun ki mujhe dard-e-tah-e-jaam bahut hai

ne teer kamaan mein hai na sayyaad kameen mein
goshe mein qafas ke mujhe aaraam bahut hai

kya zohad ko maanoon ki na ho garche riyaai
paadaash-e-amal ki tamaa-e-khaam bahut hai

hain ahl-e-khirad kis ravish-e-khaas pe naazaan
paabastagi-e-rasm-o-raah-e-aam bahut hai

zamzam hi pe chhodo mujhe kya tauf-e-haram se
aalooda-b-may jaama-e-ehraam bahut hai

hai qahar gar ab bhi na bane baat ki un ko
inkaar nahin aur mujhe ibraam bahut hai

khun ho ke jigar aankh se tapka nahin ai marg
rahne de mujhe yaa ki abhi kaam bahut hai

hoga koi aisa bhi ki ghalib ko na jaane
sha'ir to vo achha hai p badnaam bahut hai

ग़म खाने में बूदा दिल-ए-नाकाम बहुत है
ये रंज कि कम है मय-ए-गुलफ़ाम बहुत है

कहते हुए साक़ी से हया आती है वर्ना
है यूँ कि मुझे दुर्द-ए-तह-ए-जाम बहुत है

ने तीर कमाँ में है न सय्याद कमीं में
गोशे में क़फ़स के मुझे आराम बहुत है

क्या ज़ोहद को मानूँ कि न हो गरचे रियाई
पादाश-ए-अमल की तमा-ए-ख़ाम बहुत है

हैं अहल-ए-ख़िरद किस रविश-ए-ख़ास पे नाज़ाँ
पाबस्तगी-ए-रस्म-ओ-राह-ए-आम बहुत है

ज़मज़म ही पे छोड़ो मुझे क्या तौफ़-ए-हरम से
आलूदा-ब-मय जामा-ए-एहराम बहुत है

है क़हर गर अब भी न बने बात कि उन को
इंकार नहीं और मुझे इबराम बहुत है

ख़ूँ हो के जिगर आँख से टपका नहीं ऐ मर्ग
रहने दे मुझे याँ कि अभी काम बहुत है

होगा कोई ऐसा भी कि 'ग़ालिब' को न जाने
शाइ'र तो वो अच्छा है प बदनाम बहुत है

- Mirza Ghalib
1 Like

Sharm Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Sharm Shayari Shayari