husn ghamze ki kashaaksh se chhuta mere ba'ad | हुस्न ग़म्ज़े की कशाकश से छुटा मेरे बा'द - Mirza Ghalib

husn ghamze ki kashaaksh se chhuta mere ba'ad
baare aaraam se hain ahl-e-jafaa mere ba'ad

mansab-e-sheftagi ke koi qaabil na raha
hui maazooli-e-andaaz-o-ada mere ba'ad

sham'a bujhti hai to us mein se dhuaan uthata hai
sho'la-e-ishq siyah-posh hua mere ba'ad

khun hai dil khaak mein ahwaal-e-butaan par ya'ni
un ke nakhun hue muhtaaj-e-hina mere ba'ad

dar-khur-e-arz nahin jauhar-e-bedaad ko ja
nigah-e-naaz hai surme se khafa mere ba'ad

hai junoon ahl-e-junoon ke liye aaghosh-e-widaa
chaak hota hai garebaan se juda mere ba'ad

kaun hota hai hareef-e-may-e-mard-afgan-e-ishq
hai mukarrar lab-e-saaqi pe salaa mere ba'ad

gham se marta hoon ki itna nahin duniya mein koi
ki kare taaziyat-e-mehr-o-wafa mere ba'ad

aaye hai bekasi-e-ishq pe rona ghalib
kis ke ghar jaayega sailaab-e-bala mere ba'ad

thi nigaah meri nihaan-khaana-e-dil ki naqqaab
be-khatr jeete hain arbaab-e-riya mere ba'ad

tha main gul-dasta-e-ahbaab ki bandish ki giyaah
mutafarriq hue mere rufaqa mere ba'ad

हुस्न ग़म्ज़े की कशाकश से छुटा मेरे बा'द
बारे आराम से हैं अहल-ए-जफ़ा मेरे बा'द

मंसब-ए-शेफ़्तगी के कोई क़ाबिल न रहा
हुई माज़ूली-ए-अंदाज़-ओ-अदा मेरे बा'द

शम्अ' बुझती है तो उस में से धुआँ उठता है
शो'ला-ए-इश्क़ सियह-पोश हुआ मेरे बा'द

ख़ूँ है दिल ख़ाक में अहवाल-ए-बुताँ पर या'नी
उन के नाख़ुन हुए मुहताज-ए-हिना मेरे बा'द

दर-ख़ुर-ए-अर्ज़ नहीं जौहर-ए-बेदाद को जा
निगह-ए-नाज़ है सुरमे से ख़फ़ा मेरे बा'द

है जुनूँ अहल-ए-जुनूँ के लिए आग़ोश-ए-विदा'अ
चाक होता है गरेबाँ से जुदा मेरे बा'द

कौन होता है हरीफ़-ए-मय-ए-मर्द-अफ़गन-ए-इश्क़
है मुकर्रर लब-ए-साक़ी पे सला मेरे बा'द

ग़म से मरता हूँ कि इतना नहीं दुनिया में कोई
कि करे ताज़ियत-ए-मेहर-ओ-वफ़ा मेरे बा'द

आए है बेकसी-ए-इश्क़ पे रोना 'ग़ालिब'
किस के घर जाएगा सैलाब-ए-बला मेरे बा'द

थी निगह मेरी निहाँ-ख़ाना-ए-दिल की नक़्क़ाब
बे-ख़तर जीते हैं अरबाब-ए-रिया मेरे बा'द

था मैं गुलदस्ता-ए-अहबाब की बंदिश की गियाह
मुतफ़र्रिक़ हुए मेरे रुफ़क़ा मेरे बा'द

- Mirza Ghalib
0 Likes

Bekhudi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Bekhudi Shayari Shayari