juz qais aur koi na aaya b-roo-e-kaar | जुज़ क़ैस और कोई न आया ब-रू-ए-कार - Mirza Ghalib

juz qais aur koi na aaya b-roo-e-kaar
sehra magar b-tangi-e-chashm-e-hasood tha

aashuftagi ne naqsh-e-suweida kiya durust
zaahir hua ki daagh ka sarmaaya dood tha

tha khwaab mein khayal ko tujh se mua'amla
jab aankh khul gai na ziyaan tha na sood tha

leta hoon maktab-e-gham-e-dil mein sabq hanooz
lekin yahi ki raft gaya aur bood tha

dhaanpa kafan ne daagh-e-uyuub-e-barhangee
main warna har libaas mein nang-e-wujood tha

teshe baghair mar na saka kohkan asad
sargashta-e-khumaar-e-rusoom-o-quyood tha

aalam jahaan b-arz-e-bisaat-e-wujood tha
jun subh chaak-e-jeb mujhe taar-o-pood tha

baazi-khur-e-fareb hai ahl-e-nazar ka zauq
hangaama garm-e-hairat-e-bood-o-nabood tha

aalam tilism-e-shehr-e-khamoshi hai sar-basar
ya main ghareeb-e-kishwar-e-guft-o-shunood tha

tangi rafeeq-e-rah thi adam ya vujood tha
mera safar b-taala-e-chashm-e-hasood tha

tu yak-jahaan qamaash-e-hawas jam'a kar ki main
hairat-mataa-e-aalam-e-nuqsaan-o-sood tha

gardish-muheet-e-zulm raha jis qadar falak
main paayemaal-e-ghamzaa-e-chashm-e-kabood tha

poocha tha garche yaar ne ahwaal-e-dil magar
kis ko dimaagh-e-minnat-e-guft-o-shunood tha

khur shabnam-aashnaa na hua warna main asad
sar-ta-qadam guzaarish-e-zauq-e-sujuud tha

जुज़ क़ैस और कोई न आया ब-रू-ए-कार
सहरा मगर ब-तंगी-ए-चश्म-ए-हसूद था

आशुफ़्तगी ने नक़्श-ए-सुवैदा किया दुरुस्त
ज़ाहिर हुआ कि दाग़ का सरमाया दूद था

था ख़्वाब में ख़याल को तुझ से मुआ'मला
जब आँख खुल गई न ज़ियाँ था न सूद था

लेता हूँ मकतब-ए-ग़म-ए-दिल में सबक़ हनूज़
लेकिन यही कि रफ़्त गया और बूद था

ढाँपा कफ़न ने दाग़-ए-उयूब-ए-बरहनगी
मैं वर्ना हर लिबास में नंग-ए-वजूद था

तेशे बग़ैर मर न सका कोहकन 'असद'
सरगश्ता-ए-ख़ुमार-ए-रुसूम-ओ-क़ुयूद था

आलम जहाँ ब-अर्ज़-ए-बिसात-ए-वजूद था
जूँ सुब्ह चाक-ए-जेब मुझे तार-ओ-पूद था

बाज़ी-ख़ुर-ए-फ़रेब है अहल-ए-नज़र का ज़ौक़
हंगामा गर्म-ए-हैरत-ए-बूद-ओ-नबूद था

आलम तिलिस्म-ए-शहर-ए-ख़मोशी है सर-बसर
या मैं ग़रीब-ए-किश्वर-ए-गुफ़्त-ओ-शुनूद था

तंगी रफ़ीक़-ए-रह थी अदम या वजूद था
मेरा सफ़र ब-ताला-ए-चश्म-ए-हसूद था

तू यक-जहाँ क़माश-ए-हवस जम्अ' कर कि मैं
हैरत-मता-ए-आलम-ए-नुक़्सान-ओ-सूद था

गर्दिश-मुहीत-ए-ज़ुल्म रहा जिस क़दर फ़लक
मैं पाएमाल-ए-ग़म्ज़ा-ए-चश्म-ए-कबूद था

पूछा था गरचे यार ने अहवाल-ए-दिल मगर
किस को दिमाग़-ए-मिन्नत-ए-गुफ़्त-ओ-शुनूद था

ख़ुर शबनम-आश्ना न हुआ वर्ना मैं 'असद'
सर-ता-क़दम गुज़ारिश-ए-ज़ौक़-ए-सुजूद था

- Mirza Ghalib
0 Likes

Khyaal Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Khyaal Shayari Shayari