qais jitne bhi bane hain ishq mein | क़ैस जितने भी बने हैं इश्क़ में - Neeraj jha

qais jitne bhi bane hain ishq mein
sab ke sab maare gaye hain ishq mein

jo hai maqtal pehle ku-e-yaar tha
qatl hone so khade hain ishq mein

phool dekar tum ravana ho gai
varna bose bhi mile hain ishq mein

zor bas radha ka chalta hai yahan
shyaam to haare hue hain ishq mein

may-kade hain shehar bhar mein ek do
aur laakhon dil jale hain ishq mein

क़ैस जितने भी बने हैं इश्क़ में
सब के सब मारे गए हैं इश्क़ में

जो है मक़तल पहले कू-ए-यार था
क़त्ल होने सो खड़े हैं इश्क़ में

फूल देकर तुम रवाना हो गई
वरना बोसे भी मिले हैं इश्क़ में

ज़ोर बस राधा का चलता है यहाँ
श्याम तो हारे हुए हैं इश्क़ में

मय-कदे हैं शहर भर में एक दो
और लाखों दिल जले हैं इश्क़ में

- Neeraj jha
0 Likes

Basant Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Neeraj jha

As you were reading Shayari by Neeraj jha

Similar Writers

our suggestion based on Neeraj jha

Similar Moods

As you were reading Basant Shayari Shayari