uljhe hue hain kab se isi ik sawaal mein | उलझे हुए हैं कब से इसी इक सवाल में - Neeraj jha

uljhe hue hain kab se isi ik sawaal mein
aate hain ham bhi kya kabhi tere khayal mein

deewaanon mein se usne kisi ik ko jab chuna
kuchh mar gaye the rashk se baaki malaal mein

saare jahaan ke gul kii hai taaseer lag gai
dene ko teri ek hasi kii misaal mein

pehle to toot kar miyaan chaaho kisi ko tum
aata tabhi maza bhi hai hijr-o-visaal mein

उलझे हुए हैं कब से इसी इक सवाल में
आते हैं हम भी क्या कभी तेरे ख़याल में

दीवानों में से उसने किसी इक को जब चुना
कुछ मर गए थे रश्क से बाक़ी मलाल में

सारे जहाँ के गुल की है तासीर लग गई
देने को तेरी एक हँसी की मिसाल में

पहले तो टूट कर मियाँ चाहो किसी को तुम
आता तभी मज़ा भी है हिज्र-ओ-विसाल में

- Neeraj jha
0 Likes

Masti Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Neeraj jha

As you were reading Shayari by Neeraj jha

Similar Writers

our suggestion based on Neeraj jha

Similar Moods

As you were reading Masti Shayari Shayari