duniya mein mere dukh ko do chaar samajhte hain | दुनिया में मेरे दुख को दो चार समझते हैं - Neeraj jha

duniya mein mere dukh ko do chaar samajhte hain
kahte hain sabhi lekin haan yaar samajhte hain

aap apne ishaaron se karte hain bayaan jo bhi
bacche nahin hain ham sab sarkaar samajhte hain

koii na gila rakkha nisbat bhi nahin rakhi
ab aap hamein matlab bekar samajhte hain

jinko nahin haasil tu unka ye takhayyul hai
vo phool ko hi tere rukhsaar samajhte

दुनिया में मेरे दुख को दो चार समझते हैं
कहते हैं सभी लेकिन हाँ यार समझते हैं

आप अपने इशारों से करते हैं बयाँ जो भी
बच्चे नहीं हैं हम सब सरकार समझते हैं

कोई न गिला रक्खा निस्बत भी नहीं रक्खी
अब आप हमें मतलब बेकार समझते हैं

जिनको नहीं हासिल तू उनका ये तख़य्युल है
वो फूल को ही तेरे रुख़्सार समझते

- Neeraj jha
0 Likes

Udasi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Neeraj jha

As you were reading Shayari by Neeraj jha

Similar Writers

our suggestion based on Neeraj jha

Similar Moods

As you were reading Udasi Shayari Shayari