saamne khada hoon main tu aur mujhpe vaar kar | सामने खड़ा हूँ मैं तू और मुझपे वार कर - Neeraj jha

saamne khada hoon main tu aur mujhpe vaar kar
dil tera agar nahin bhara ho mujhko maar kar

rasm ye tabaah kar rahi hai ik qabeele ko
mard ban rahe hain ladke ladkiyon ko maar kar

pyaar hi sabab bana hai is latkati laash ka
hai ajab ki aap phir bhi kah rahe hain pyaar kar

सामने खड़ा हूँ मैं तू और मुझपे वार कर
दिल तेरा अगर नहीं भरा हो मुझको मार कर

रस्म ये तबाह कर रही है इक क़बीले को
मर्द बन रहे हैं लड़के लड़कियों को मार कर

प्यार ही सबब बना है इस लटकती लाश का
है अजब कि आप फिर भी कह रहे हैं प्यार कर

- Neeraj jha
3 Likes

Aawargi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Neeraj jha

As you were reading Shayari by Neeraj jha

Similar Writers

our suggestion based on Neeraj jha

Similar Moods

As you were reading Aawargi Shayari Shayari