besan ki saundhi roti par khatti chatni jaisi maa | बेसन की सौंधी रोटी पर खट्टी चटनी जैसी माँ - Nida Fazli

besan ki saundhi roti par khatti chatni jaisi maa
yaad aati hai chauka baasan chimta fukni jaisi maa

baans ki kharrri khaat ke oopar har aahat par kaan dhare
aadhi soi aadhi jaagi thaki do-pahri jaisi maa

chidiyon ki chahkaar mein goonje radha mohan ali ali
murge ki awaaz se bajti ghar ki kundi jaisi maa

biwi beti behn pardosan thodi thodi si sab mein
din bhar ik rassi ke oopar chalti natni jaisi maa

baant ke apna chehra maatha aankhen jaane kahaan gai
fate purane ik album mein chanchal ladki jaisi maa

बेसन की सौंधी रोटी पर खट्टी चटनी जैसी माँ
याद आती है! चौका बासन चिमटा फुकनी जैसी माँ

बाँस की खर्री खाट के ऊपर हर आहट पर कान धरे
आधी सोई आधी जागी थकी दो-पहरी जैसी माँ

चिड़ियों की चहकार में गूँजे राधा मोहन अली अली
मुर्ग़े की आवाज़ से बजती घर की कुंडी जैसी माँ

बीवी बेटी बहन पड़ोसन थोड़ी थोड़ी सी सब में
दिन भर इक रस्सी के ऊपर चलती नटनी जैसी माँ

बाँट के अपना चेहरा माथा आँखें जाने कहाँ गई
फटे पुराने इक एल्बम में चंचल लड़की जैसी माँ

- Nida Fazli
5 Likes

Gareebi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nida Fazli

As you were reading Shayari by Nida Fazli

Similar Writers

our suggestion based on Nida Fazli

Similar Moods

As you were reading Gareebi Shayari Shayari