main apne hi munh se ajal kah raha hoon | मैं अपने ही मुंह से अजल कह रहा हूँ - Nilesh Barai

main apne hi munh se ajal kah raha hoon
nahin thi khabar apna kal kah raha hoon

ke ab hijr mera katega to kaise
yahi soch kar ik ghazal kah raha hoon

tiri gesuon se dhaki hai yeh aankhe
main aankhon ko moti-mahal kah raha hoon

tujhe gar lagi hai abhi ishq ki lat
ye aadat abhi se badal kah raha hoon

ye kaisi museebat mein daala gaya hoon
khudi ke museebat ko hal kah raha hoon

milega nahi koi naksh-e-paa tujhko
navaazish ye manzil badal kah raha hoon

मैं अपने ही मुंह से अजल कह रहा हूँ
नहीं थी खबर अपना कल कह रहा हूं

के अब हिज्र मेरा कटेगा तो कैसे
यही सोच कर इक ग़ज़ल कह रहा हूँ

तिरी गेसुओं से ढकी है यें आंखे
मैं आंखों को मोती-महल कह रहा हूँ

तुझे गर लगी है अभी इश्क़ की लत
ये आदत अभी से बदल, कह रहा हूँ

ये कैसी मुसीबत में डाला गया हूँ
खुदी के मुसीबत को हल कह रहा हूँ

मिलेगा नही कोई नक्श-ए-पा तुझको
नवाज़िश ये मंजिल बदल कह रहा हूँ

- Nilesh Barai
1 Like

Hijr Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nilesh Barai

As you were reading Shayari by Nilesh Barai

Similar Writers

our suggestion based on Nilesh Barai

Similar Moods

As you were reading Hijr Shayari Shayari