modern heeren to zar-daaron ke haan rah jaayengi | माडर्न हीरें तो ज़र-दारों के हाँ रह जाएँगी - Sarfaraz Shahid

modern heeren to zar-daaron ke haan rah jaayengi
aur ranjhaen ke labon par muraliyaan rah jaayengi

ho sake to tum bacha lo ab bhi desi nasl ko
warna peeche sirf shevar murghiyaan rah jaayengi

sunflower ho gaya hai ibn-e-aadam ki ghiza
ab chaman-zaaron mein goya sabziyaan rah jaayengi

chhoti qaumon par agar veto ka lath chalta raha
sirf u.n.o mein gunda-gardiyaan rah jaayengi

nek-seerat shauhron ko dekh kar huroon ke beech
khuld ke andar tadap kar beeviyaan rah jaayengi

zulmatein hongi tawaanai ke is bohraan mein
sirf aankhon mein chamakti bijliyaan rah jaayengi

murgh par fauran jhapat daawat mein warna b'ad mein
shorba aur gardanon ki haddiyaan rah jaayengi

ghar ke gul-daano mein shaahid phool honge kaaghazi
aur pardo par printed titliyan rah jaayengi

माडर्न हीरें तो ज़र-दारों के हाँ रह जाएँगी
और राँझाें के लबों पर मुरलियाँ रह जाएँगी

हो सके तो तुम बचा लो अब भी देसी नस्ल को
वर्ना पीछे सिर्फ़ ''शेवर'' मुर्ग़ियाँ रह जाएँगी

''सनफ़्लॉवर'' हो गया है इब्न-ए-आदम की ग़िज़ा
अब चमन-ज़ारों में गोया सब्ज़ियाँ रह जाएँगी

छोटी क़ौमों पर अगर ''वीटो'' का लठ चलता रहा
सिर्फ़ ''यू.एन.ओ'' में ग़ुंडा-गर्दीयाँ रह जाएँगी

नेक-सीरत शौहरों को देख कर हूरों के बीच
ख़ुल्द के अंदर तड़प कर बीवियाँ रह जाएँगी

ज़ुल्मतें होंगी तवानाई के इस बोहरान में
सिर्फ़ आँखों में चमकती बिजलियाँ रह जाएँगी

मुर्ग़ पर फ़ौरन झपट दावत में वर्ना ब'अद में
शोरबा और गर्दनों की हड्डियाँ रह जाएँगी

घर के गुल-दानों में 'शाहिद' फूल होंगे काग़ज़ी
और पर्दों पर ''प्रिंटेड'' तितलियाँ रह जाएँगी

- Sarfaraz Shahid
1 Like

Beqarari Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Sarfaraz Shahid

As you were reading Shayari by Sarfaraz Shahid

Similar Writers

our suggestion based on Sarfaraz Shahid

Similar Moods

As you were reading Beqarari Shayari Shayari