zindagi ka har nafs mamnoon hai tadbeer ka | ज़िंदगी का हर नफ़स मम्नून है तदबीर का - Subhan Asad

zindagi ka har nafs mamnoon hai tadbeer ka
waizoo dhoka na do insaan ko taqdeer ka

apni sannaai ki tujh ko laaj bhi hai ya nahin
ai musavvir dekh rang udne laga tasveer ka

aap kyun ghabra gaye ye aap ko kya ho gaya
meri aahon se koi rishta nahin taaseer ka

dil se naazuk shay se kab tak ye harifaana sulook
dekh sheesha toota jaata hai tiri tasveer ka

har nafs ki aamad-o-shud par ye hoti hai khushi
ek halka aur bhi kam ho gaya zanjeer ka

farq itna hai ki tu parde mein aur main be-hijaab
warna main aks-e-mukammal hoon tiri tasveer ka

ज़िंदगी का हर नफ़स मम्नून है तदबीर का
वाइज़ो धोका न दो इंसान को तक़दीर का

अपनी सन्नाई की तुझ को लाज भी है या नहीं
ऐ मुसव्विर देख रंग उड़ने लगा तस्वीर का

आप क्यूँ घबरा गए ये आप को क्या हो गया
मेरी आहों से कोई रिश्ता नहीं तासीर का

दिल से नाज़ुक शय से कब तक ये हरीफ़ाना सुलूक
देख शीशा टूटा जाता है तिरी तस्वीर का

हर नफ़स की आमद-ओ-शुद पर ये होती है ख़ुशी
एक हल्क़ा और भी कम हो गया ज़ंजीर का

फ़र्क़ इतना है कि तू पर्दे में और मैं बे-हिजाब
वर्ना मैं अक्स-ए-मुकम्मल हूँ तिरी तस्वीर का

- Subhan Asad
0 Likes

Qismat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Subhan Asad

As you were reading Shayari by Subhan Asad

Similar Writers

our suggestion based on Subhan Asad

Similar Moods

As you were reading Qismat Shayari Shayari