nahin udaaunga khaak roya nahin karunga | नहीं उड़ाऊँगा ख़ाक रोया नहीं करूँगा - Taimur Hasan

nahin udaaunga khaak roya nahin karunga
karunga main ishq par tamasha nahin karunga

meri mohabbat bhi khaas hai kyunki khaas hoon main
so aam logon mein zikr is ka nahin karunga

use batao firaar ka naam to nahin ishq
jo kah raha hai main kaar-e-duniya nahin karunga

kabhi na socha tha guftugoo bhi karunga ghanton
aur apni baaton mein zikr tera nahin karunga

iraadtan jo kiya hai ab tak galat kiya hai
so ab koi kaam bil-iraada nahin karunga

tujhe main apna nahin samajhta isee liye to
zamaane tujh se main koi shikwa nahin karunga

meri tavajjoh faqat mere kaam par rahegi
main khud ko saabit karunga daava nahin karunga

agar main haara to maan loonga shikast apni
tiri tarah se koi bahaana nahin karunga

agar kisi maslahat mein peeche hata hoon taimoor
to mat samajhna ki ab main hamla nahin karunga

नहीं उड़ाऊँगा ख़ाक रोया नहीं करूँगा
करूँगा मैं इश्क़ पर तमाशा नहीं करूँगा

मिरी मोहब्बत भी ख़ास है क्यूँकि ख़ास हूँ मैं
सो आम लोगों में ज़िक्र इस का नहीं करूँगा

उसे बताओ फ़रार का नाम तो नहीं इश्क़
जो कह रहा है मैं कार-ए-दुनिया नहीं करूँगा

कभी न सोचा था गुफ़्तुगू भी करूँगा घंटों
और अपनी बातों में ज़िक्र तेरा नहीं करूँगा

इरादतन जो किया है अब तक ग़लत किया है
सो अब कोई काम बिल-इरादा नहीं करूँगा

तुझे मैं अपना नहीं समझता इसी लिए तो
ज़माने तुझ से मैं कोई शिकवा नहीं करूँगा

मिरी तवज्जोह फ़क़त मिरे काम पर रहेगी
मैं ख़ुद को साबित करूँगा दावा नहीं करूँगा

अगर मैं हारा तो मान लूँगा शिकस्त अपनी
तिरी तरह से कोई बहाना नहीं करूँगा

अगर किसी मस्लहत में पीछे हटा हूँ 'तैमूर'
तो मत समझना कि अब मैं हमला नहीं करूँगा

- Taimur Hasan
0 Likes

Shikwa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Taimur Hasan

As you were reading Shayari by Taimur Hasan

Similar Writers

our suggestion based on Taimur Hasan

Similar Moods

As you were reading Shikwa Shayari Shayari