kheench hi lega dosti ki taraf | खींच ही लेगा दोस्ती की तरफ़ - Ahmad Azeem

kheench hi lega dosti ki taraf
us ke dushman bhi hain usi ki taraf

ek patwaar naav ki khaatir
ik nazar meri zindagi ki taraf

ik jhalak us haseen chehre ki
ik qadam aur shaay'ri ki taraf

aap ka saath jis ko mil jaaye
kyun hi dekhega ve ghadi ki taraf

baccha bola ghubaare waale se
ek chakkar meri gali ki taraf

jab bhi phoolon ka zikr hota hai
zahn jaata hai aap hi ki taraf

ye koi poochne ki baat hai yaar
kaise aaye ho shaay'ri ki taraf

खींच ही लेगा दोस्ती की तरफ़
उस के दुश्मन भी हैं उसी की तरफ़

एक पतवार नाव की ख़ातिर
इक नज़र मेरी ज़िंदगी की तरफ़

इक झलक उस हसीन चेहरे की
इक क़दम और शाइ'री की तरफ़

आप का साथ जिस को मिल जाए
क्यों ही देखेगा वे घड़ी की तरफ़

बच्चा बोला ग़ुबारे वाले से
एक चक्कर मिरी गली की तरफ़

जब भी फूलों का ज़िक्र होता है
ज़ह्न जाता है आप ही की तरफ़

ये कोई पूछने की बात है यार
कैसे आए हो शाइ'री की तरफ़

- Ahmad Azeem
1 Like

Rahbar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Azeem

As you were reading Shayari by Ahmad Azeem

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Azeem

Similar Moods

As you were reading Rahbar Shayari Shayari