dushmanon ki kabhi fihrist badhaata nahin main | दुश्मनों की कभी फ़िहरिस्त बढ़ाता नहीं मैं - Ahmad Azeem

dushmanon ki kabhi fihrist badhaata nahin main
ishq kis se hai kisi ko bhi bataata nahin main

us ne is tarah pukaara ki palatna hi pada
warna ik baar chala jaaun to aata nahin main

teri qismat ki tu is dil mein raha karta hai
ye vo masnad hai jahaan sab ko bithaata nahin main

mere sayyaad mujhe ab to rihaa mat karna
tere daane ke siva kuchh bhi to khaata nahin main

jo bhi hota hai vo achhe ke liye hota hai
is liye zakham pe marham bhi lagata nahin main

apni marzi se chalaata hoon ghadi ko apni
waqt apna kabhi auron se milaata nahin main

itna saada hai ki khat bhi nahin likhna aata
us ke khat ghar mein kisi se bhi chhupata nahin main

mujh ko sha'ir kabhi tasleem karegi duniya
she'r kehta hoon magar peeta pilaata nahin main

दुश्मनों की कभी फ़िहरिस्त बढ़ाता नहीं मैं
इश्क़ किस से है किसी को भी बताता नहीं मैं

उस ने इस तरह पुकारा कि पलटना ही पड़ा
वर्ना इक बार चला जाऊँ तो आता नहीं मैं

तेरी क़िस्मत कि तू इस दिल में रहा करता है
ये वो मसनद है जहाँ सब को बिठाता नहीं मैं

मेरे सय्याद मुझे अब तो रिहा मत करना
तेरे दाने के सिवा कुछ भी तो खाता नहीं मैं

जो भी होता है वो अच्छे के लिए होता है
इस लिए ज़ख़्म पे मरहम भी लगाता नहीं मैं

अपनी मर्ज़ी से चलाता हूँ घड़ी को अपनी
वक़्त अपना कभी औरों से मिलाता नहीं मैं

इतना सादा है कि ख़त भी नहीं लिखना आता
उस के ख़त घर में किसी से भी छुपाता नहीं मैं

मुझ को शाइ'र कभी तस्लीम करेगी दुनिया
शे'र कहता हूँ मगर पीता पिलाता नहीं मैं

- Ahmad Azeem
2 Likes

Qismat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Azeem

As you were reading Shayari by Ahmad Azeem

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Azeem

Similar Moods

As you were reading Qismat Shayari Shayari