koi na doobe main yun sahaare bana raha hoon | कोई न डूबे मैं यूँ सहारे बना रहा हूँ - Ahmad Azeem

koi na doobe main yun sahaare bana raha hoon
jahaan bhanwar hai wahin kinaare bana raha hoon

ye ghazlein sun ke tu apne oopar ghuroor mat kar
main waah waah hi ko isti'aare bana raha hoon

ye main hi kehta tha phool mat tod par ye gajre
main us ke gusse ke dar ke maare bana raha hoon

siva hamaare koi na samjhe hamaari baatein
yun guftugoo ke naye ishaare bana raha hoon

jo tum ne tasveer bheji meri adhuri si thi
so us ke chaaron taraf sharaare bana raha hoon

mujhe badhaana hai chaand taaron ke martabe ko
so us ke maathe pe chaand taare bana raha hoon

कोई न डूबे मैं यूँ सहारे बना रहा हूँ
जहाँ भँवर है वहीं किनारे बना रहा हूँ

ये ग़ज़लें सुन के तू अपने ऊपर ग़ुरूर मत कर
मैं वाह वाह ही को इस्तिआ'रे बना रहा हूँ

ये मैं ही कहता था फूल मत तोड़ पर ये गजरे
मैं उस के ग़ुस्से के डर के मारे बना रहा हूँ

सिवा हमारे कोई न समझे हमारी बातें
यूँ गुफ़्तुगू के नए इशारे बना रहा हूँ

जो तुम ने तस्वीर भेजी मेरी अधूरी सी थी
सो उस के चारों तरफ़ शरारे बना रहा हूँ

मुझे बढ़ाना है चाँद तारों के मर्तबे को
सो उस के माथे पे चाँद तारे बना रहा हूँ

- Ahmad Azeem
0 Likes

Basant Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Azeem

As you were reading Shayari by Ahmad Azeem

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Azeem

Similar Moods

As you were reading Basant Shayari Shayari