ik tabassum ka tha sauda ham ko | इक तबस्सुम का था सौदा हम को - Ahmad Azeem

ik tabassum ka tha sauda ham ko
tu ne saste mein khareeda ham ko

mauj-dar-mauj hai gham-ha-e-firaq
paar karna hai ye dariya ham ko

bhoolte jaate hain tujh ko jaanaan
zakham de phir koi taaza ham ko

baith jaate kisi deewaar ke saath
kab hua ye bhi gawara ham ko

ai falak thodi si rahmat ham par
ai zameen thoda sa tukda ham ko

इक तबस्सुम का था सौदा हम को
तू ने सस्ते में ख़रीदा हम को

मौज-दर-मौज है ग़म-हा-ए-फ़िराक़
पार करना है ये दरिया हम को

भूलते जाते हैं तुझ को जानाँ
ज़ख़्म दे फिर कोई ताज़ा हम को

बैठ जाते किसी दीवार के साथ
कब हुआ ये भी गवारा हम को

ऐ फ़लक थोड़ी सी रहमत हम पर
ऐ ज़मीं थोड़ा सा टुकड़ा हम को

- Ahmad Azeem
2 Likes

Nadii Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Azeem

As you were reading Shayari by Ahmad Azeem

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Azeem

Similar Moods

As you were reading Nadii Shayari Shayari