maana meri un se baatein hoti hain | माना मेरी उन से बातें होती हैं - Ahmad Azeem

maana meri un se baatein hoti hain
lekin tasveerein tasveerein hoti hain

logon se achhi tasveerein hoti hain
jitni chaaho utni baatein hoti hain

jhoote dilaase mat do main ye jaanta hoon
beemaaron se kaisi baatein hoti hain

hijr ke din aise din hote hain jin mein
raaton ke aage bhi raatein hoti hain

माना मेरी उन से बातें होती हैं
लेकिन तस्वीरें तस्वीरें होती हैं

लोगों से अच्छी तस्वीरें होती हैं
जितनी चाहो उतनी बातें होती हैं

झूटे दिलासे मत दो मैं ये जानता हूँ
बीमारों से कैसी बातें होती हैं

हिज्र के दिन ऐसे दिन होते हैं जिन में
रातों के आगे भी रातें होती हैं

- Ahmad Azeem
1 Like

Judai Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Azeem

As you were reading Shayari by Ahmad Azeem

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Azeem

Similar Moods

As you were reading Judai Shayari Shayari