bichhad gaya tha to us ka khayal kyun aaya | बिछड़ गया था तो उस का ख़याल क्यों आया - Ahmad Azeem

bichhad gaya tha to us ka khayal kyun aaya
yahi to dukh hai ki sheeshe mein baal kyun aaya

nayi kiran se abhi aashna hui thi zameen
jawaan tha mehr ye is par zawaal kyun aaya

jab ek berg na ashjaar-e-aarzoo pe raha
to mast mausam-e-baad-e-shumaal kyun aaya

har aarzoo hui kyun us ki bazm mein ghaayal
har ek khwaab wahan se nidhaal kyun aaya

agar nahin hai tujhe ranj bewafaai ka
to tere lehje mein itna malaal kyun aaya

बिछड़ गया था तो उस का ख़याल क्यों आया
यही तो दुख है कि शीशे में बाल क्यों आया

नई किरन से अभी आश्ना हुई थी ज़मीं
जवाँ था महर ये इस पर ज़वाल क्यों आया

जब एक बर्ग न अश्जार-ए-आरज़ू पे रहा
तो मस्त मौसम-ए-बाद-ए-शुमाल क्यों आया

हर आरज़ू हुई क्यों उस की बज़्म में घायल
हर एक ख़्वाब वहाँ से निढाल क्यों आया

अगर नहीं है तुझे रंज बेवफ़ाई का
तो तेरे लहजे में इतना मलाल क्यों आया

- Ahmad Azeem
0 Likes

Tasawwur Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Azeem

As you were reading Shayari by Ahmad Azeem

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Azeem

Similar Moods

As you were reading Tasawwur Shayari Shayari