vo to shukr karo tum meetha lahja hai shehzaadi ka | वो तो शुक्र करो तुम मीठा लहजा है शहज़ादी का - Ahmad Azeem

vo to shukr karo tum meetha lahja hai shehzaadi ka
jis ko pyaar samjhte ho vo gussa hai shehzaadi ka

main ne saari duniya mein bas ek haseena dekhi hai
baaki koi husn nahin hai charba hai shehzaadi ka

dekhne waale soch rahe hain mere munh mein cigarette hai
main kehne mein sharmaata hoon bosa hai shehzaadi ka

jab main us ka hoon to poochte kyun ho ye dil kis ka hai
naukar bhi us ke honge jab bangla hai shehzaadi ka

वो तो शुक्र करो तुम मीठा लहजा है शहज़ादी का
जिस को प्यार समझते हो वो ग़ुस्सा है शहज़ादी का

मैं ने सारी दुनिया में बस एक हसीना देखी है
बाक़ी कोई हुस्न नहीं है चर्बा है शहज़ादी का

देखने वाले सोच रहे हैं मेरे मुँह में सिगरेट है
मैं कहने में शरमाता हूँ बोसा है शहज़ादी का

जब मैं उस का हूँ तो पूछते क्यूँ हो ये दिल किस का है
नौकर भी उस के होंगे जब बंगला है शहज़ादी का

- Ahmad Azeem
2 Likes

Narazgi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Azeem

As you were reading Shayari by Ahmad Azeem

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Azeem

Similar Moods

As you were reading Narazgi Shayari Shayari