khizaan ka sog ya jashn-e-bahaar karte hue | ख़िज़ाँ का सोग या जश्न-ए-बहार करते हुए - Ahmad Azeem

khizaan ka sog ya jashn-e-bahaar karte hue
kati hai umr tira intizaar karte hue

sharf ye sirf muqaddar tha aaine ke liye
ki dekhta raha tujh ko singhaar karte hue

safar ki shaam ka manzar lahu mein doob gaya
sabhi malool the tujh ko sawaar karte hue

lahu bujha na saka qaatilon ki pyaas kabhi
thaki na sham'a patange shikaar karte hue

banaao aab pe ik yaadgaar un ki azeem
jo ghark ho gaye dariya ko paar karte hue

ख़िज़ाँ का सोग या जश्न-ए-बहार करते हुए
कटी है उम्र तिरा इंतिज़ार करते हुए

शरफ़ ये सिर्फ़ मुक़द्दर था आइने के लिए
कि देखता रहा तुझ को सिंघार करते हुए

सफ़र की शाम का मंज़र लहू में डूब गया
सभी मलूल थे तुझ को सवार करते हुए

लहू बुझा न सका क़ातिलों की प्यास कभी
थकी न शम्अ पतंगे शिकार करते हुए

बनाओ आब पे इक यादगार उन की 'अज़ीम'
जो ग़र्क़ हो गए दरिया को पार करते हुए

- Ahmad Azeem
0 Likes

Aawargi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Azeem

As you were reading Shayari by Ahmad Azeem

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Azeem

Similar Moods

As you were reading Aawargi Shayari Shayari