chhoti chhoti baaton par tum khoob tamasha karti ho | छोटी छोटी बातों पर तुम ख़ूब तमाशा करती हो - Ahmad Azeem

chhoti chhoti baaton par tum khoob tamasha karti ho
tum ko dekh ke kaun kahega ik munsif ki beti ho

ye bhi ik kaaran tha tum se apne raaz chhupaane ka
chahe jitna samjhaao tum duniya se kah deti ho

waqt ke rahte baig mein tum ne apne kapde rakhe nai
gaadi chhoot rahi hai ab kyun dekh ke mujh ko roti ho

duniya kya kya soch rahi hai ham dono ke baare mein
main kis kis ko batlaaoon tum jaldi se so jaati ho

toka-taaki bas ik had tak theek nateeja deti hai
baccha bigadta hai gar us pe be-matlab ki sakhti ho

छोटी छोटी बातों पर तुम ख़ूब तमाशा करती हो
तुम को देख के कौन कहेगा इक मुंसिफ़ की बेटी हो

ये भी इक कारन था तुम से अपने राज़ छुपाने का
चाहे जितना समझाओ तुम दुनिया से कह देती हो

वक़्त के रहते बैग में तुम ने अपने कपड़े रक्खे नईं
गाड़ी छूट रही है अब क्यूँ देख के मुझ को रोती हो

दुनिया क्या क्या सोच रही है हम दोनों के बारे में
मैं किस किस को बतलाऊँ तुम जल्दी से सो जाती हो

टोका-टाकी बस इक हद तक ठीक नतीजा देती है
बच्चा बिगड़ता है गर उस पे बे-मतलब की सख़्ती हो

- Ahmad Azeem
0 Likes

Anjam Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Azeem

As you were reading Shayari by Ahmad Azeem

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Azeem

Similar Moods

As you were reading Anjam Shayari Shayari