yahan pe dhunde se bhi farishte nahin milenge | यहाँ पे ढूँडे से भी फ़रिश्ते नहीं मिलेंगे - Ahmad Azeem

yahan pe dhunde se bhi farishte nahin milenge
zameen hai sahab yahan to ahl-e-zameen milenge

pareshaan mat ho ki yaar tedhi lakeeren hain ham
kahaan ka to kuchh pata nahin par kahi milenge

kuchh aise gham hain jo dil mein hargiz nahin theharte
makaan hote hue sadak par makeen milenge

zameen pe milne na denge ham ko zamaane waale
chalo ki marte hain dono zer-e-zameen milenge

hamaare dil mein bani hui hain hazaaron qabren
har ek turbat mein dafn zinda yaqeen milenge

rakha gaya hai hamein kuchh aise mughalte mein
wahan milenge jahaan pe arsh-o-zameen milenge

hamein to hooren milengi ham se bana ke rakho
tumhein wahan par bhi ja ke keval humeen milenge

यहाँ पे ढूँडे से भी फ़रिश्ते नहीं मिलेंगे
ज़मीं है साहब यहाँ तो अहल-ए-ज़मीं मिलेंगे

परेशाँ मत हो कि यार टेढ़ी लकीरें हैं हम
कहाँ का तो कुछ पता नहीं पर कहीं मिलेंगे

कुछ ऐसे ग़म हैं जो दिल में हरगिज़ नहीं ठहरते
मकान होते हुए सड़क पर मकीं मिलेंगे

ज़मीं पे मिलने न देंगे हम को ज़माने वाले
चलो कि मरते हैं दोनों ज़ेर-ए-ज़मीं मिलेंगे

हमारे दिल में बनी हुई हैं हज़ारों क़ब्रें
हर एक तुर्बत में दफ़्न ज़िंदा यक़ीं मिलेंगे

रखा गया है हमें कुछ ऐसे मुग़ालते में
वहाँ मिलेंगे जहाँ पे अर्श-ओ-ज़मीं मिलेंगे

हमें तो हूरें मिलेंगी हम से बना के रक्खो
तुम्हें वहाँ पर भी जा के केवल हमीं मिलेंगे

- Ahmad Azeem
0 Likes

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Azeem

As you were reading Shayari by Ahmad Azeem

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Azeem

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari