khizaan mein sookh bhi sakti hai fulwaari hamaari | ख़िज़ाँ में सूख भी सकती है फुलवारी हमारी - Ahmad Azeem

khizaan mein sookh bhi sakti hai fulwaari hamaari
sukhan-kaari mein dekhe koi gul-kaari hamaari

ik aisi sinf pe mabni hai fankaari hamaari
chhupaane se nahin chhupti hai dildaari hamaari

nahin milte jo ham un se bhi milna chahte hain
bahut rusva karaati hai milan-saari hamaari

tumhaare aane ke imkaan nazar aate hain ham ko
ziyaada khil rahi hai aaj fulwaari hamaari

ham ab mushkil-pasandi ki taraf badhne lage hain
use mushkil laga karti thi hamvaari hamaari

chalo maana ki us soorat mein bhi ham haar jaate
magar karte to tum thodi taraf-dari hamaari

ख़िज़ाँ में सूख भी सकती है फुलवारी हमारी
सुख़न-कारी में देखे कोई गुल-कारी हमारी

इक ऐसी सिंफ़ पे मब्नी है फ़नकारी हमारी
छुपाने से नहीं छुपती है दिलदारी हमारी

नहीं मिलते जो हम उन से भी मिलना चाहते हैं
बहुत रुस्वा कराती है मिलन-सारी हमारी

तुम्हारे आने के इम्काँ नज़र आते हैं हम को
ज़ियादा खिल रही है आज फुलवारी हमारी

हम अब मुश्किल-पसंदी की तरफ़ बढ़ने लगे हैं
उसे मुश्किल लगा करती थी हमवारी हमारी

चलो माना कि उस सूरत में भी हम हार जाते
मगर करते तो तुम थोड़ी तरफ़-दारी हमारी

- Ahmad Azeem
0 Likes

Haar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Azeem

As you were reading Shayari by Ahmad Azeem

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Azeem

Similar Moods

As you were reading Haar Shayari Shayari