sirf zinda hi nahin hosh sambhaale hue hain | सिर्फ़ ज़िंदा ही नहीं होश सँभाले हुए हैं - Ahmad Azeem

sirf zinda hi nahin hosh sambhaale hue hain
aap ko dasht mein ya'ni abhi hafta hue hain

kaun chahega darakht us ke samar-baar na hon
tu bane is liye ham khud ko mitaaye hue hain

ye jo bacche hain faqat jhoola nahin jhool rahe
shaakh pe phool ki maanind ye latke hue hain

in darakhton ke fawaaid ka tumhein ilm nahin
un ko mat kaato ye baba ke lagaaye hue hain

main bahut khush tha mujhe us ne bulaaya hai azeem
par yahan jitne hain sab us ke bulaaye hue hain

सिर्फ़ ज़िंदा ही नहीं होश सँभाले हुए हैं
आप को दश्त में या'नी अभी हफ़्ते हुए हैं

कौन चाहेगा दरख़्त उस के समर-बार न हों
तू बने इस लिए हम ख़ुद को मिटाए हुए हैं

ये जो बच्चे हैं फ़क़त झूला नहीं झूल रहे
शाख़ पे फूल की मानिंद ये लटके हुए हैं

इन दरख़्तों के फ़वाएद का तुम्हें इल्म नहीं
उन को मत काटो ये बाबा के लगाए हुए हैं

मैं बहुत ख़ुश था मुझे उस ने बुलाया है 'अज़ीम'
पर यहाँ जितने हैं सब उस के बुलाए हुए हैं

- Ahmad Azeem
0 Likes

Khushboo Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Azeem

As you were reading Shayari by Ahmad Azeem

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Azeem

Similar Moods

As you were reading Khushboo Shayari Shayari