misaal-e-barg-e-shikasta hawa ki zad par hai | मिसाल-ए-बर्ग-ए-शिकस्ता हवा की ज़द पर है - Ahmad Azeem

misaal-e-barg-e-shikasta hawa ki zad par hai
koi charaagh akela hawa ki zad par hai

amaan dhundh raha hai khula hua paani
mohabbaton ka jazeera hawa ki zad par hai

karahati hain kisi ke firaq mein shaamen
dil aisa ek shagoofa hawa ki zad par hai

manaae khair kaho sahilon se aaj ki raat
subuk-khiraam sa dariya hawa ki zad par hai

wufoor-e-ranj-e-tamanna se bujhta jaata hai
ki aaj mera hi chehra hawa ki zad par hai

fazaa mein ghulne lagin ghantiyon ki aawaazen
kahi pe koi kaleesa hawa ki zad par hai

labon pe doob rahi hain darood ki cheekhen
dua ka band dareecha hawa ki zad par hai

mitti mitti nazar aati hain aayatein yaarab
aqeedaton ka sahifa hawa ki zad par hai

मिसाल-ए-बर्ग-ए-शिकस्ता हवा की ज़द पर है
कोई चराग़ अकेला हवा की ज़द पर है

अमान ढूँड रहा है खुला हुआ पानी
मोहब्बतों का जज़ीरा हवा की ज़द पर है

कराहती हैं किसी के फ़िराक़ में शामें
दिल ऐसा एक शगूफ़ा हवा की ज़द पर है

मनाएँ ख़ैर कहो साहिलों से आज की रात
सुबुक-ख़िराम सा दरिया हवा की ज़द पर है

वफ़ूर-ए-रंज-ए-तमन्ना से बुझता जाता है
कि आज मेरा ही चेहरा हवा की ज़द पर है

फ़ज़ा में घुलने लगीं घंटियों की आवाज़ें
कहीं पे कोई कलीसा हवा की ज़द पर है

लबों पे डूब रही हैं दरूद की चीख़ें
दुआ का बंद दरीचा हवा की ज़द पर है

मिटी मिटी नज़र आती हैं आयतें यारब
अक़ीदतों का सहीफ़ा हवा की ज़द पर है

- Ahmad Azeem
0 Likes

Lab Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Azeem

As you were reading Shayari by Ahmad Azeem

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Azeem

Similar Moods

As you were reading Lab Shayari Shayari